Blog

सनातन धर्म के पतन का प्रमुख कारण

Written by prachur

सनातन धर्म के पतन का प्रमुख कारण हिंदुओं का मुस्लिमों के विरुद्ध युद्ध धर्म युध्द की तरह न लड़ना था। जबकि समकालीन यूरोप में यूरोपियों ने अरबी आक्रमणकारियों के साथ युद्ध धर्म युध्द (क्रूसेड) की तरह किया, परंतु हिंदुओं ने ऐसा कभी नही किया। वे यह समझते रहे की मुस्लिम धन संपत्ति एवं शासन करना चाहते है , अतः कभी आपस में एकजुट होकर युध्द नही किया और आपस में लड़ते हुए कमजोर हुए और अंततः मुगलो के हाथ पराजय हुई।


ऐसा ही दक्षिण के शक्तिशाली साम्राज्य विजनगर के साथ हुआ, विजयनगर साम्राज्य दक्षिण का सबसे शक्तिशाली साम्राज्य था इनके पड़ोस के राज्य मुस्लिम शासित थे इनके नाम अहमदनगर, बीजापुर और गोलकुंडा थे, ऐ राज्य आपस में लड़ते रहते थे परन्तु इनकी मूल दुश्मनी काफिर राज्य विजयनगर से थे, इन तीनो ने विजनगर को अकेले जीतने की कोशिश की परंतु हार गए आठ इन तीनो ने गठबंधन बना कर विजनगर राज्य के विरुद्ध तालीकोटा के मैदान में युद्ध कर हरा दिया और इस तरह विजयनगर साम्राज्य का पतन हो गया और अन्य युद्धो के पश्चात की तरह ही हिन्दू महिलाओं को अपने हरम में शामिल कर लिया गया, हिन्दू मंदिरो को तोडा गया, महत्वपूर्ण भवनों को नेस्तनाभूत किया गया और अपार धन संपत्ति लूटी गई। यह लूट और विध्वंश की प्रक्रिया 6 महीनों तक चलती रही।
इसी प्रकार का युद्ध आज भी हिन्दू संस्कृति के विरुध्द आज भी जारी है , बहुत सारे हिन्दू आज भी इसे नही समझते ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार पूर्व में मुस्लिमो के विरुद्ध युद्ध को धर्म युद्ध नही समझकर कुछ लोगो ने मुस्लिम आक्रमणकारियों का साथ दिया था। इन्ही मूर्खो आज के सेक्युलर के कारणों से हम पिछले १२०० वर्षो से ग़ुलामी का दंश झेल रहे है।
हो सकता है की 2019 के चुनावों में हिंदूवादी सर्कार को परास्त करने के लिए महागठबंधन हो उन परिस्थितियों में हमे पूर्व की गलतियों को न दुहराते हुए हिन्दू विरोधी तथाकथित सेक्युलरों को परास्त करना होगा।
हमारी 1200 वर्ष की गुलामी का कारण हमारी शक्ति में कमी नही अपितु हमारी समस्या के मूल कारणों इस्लाम धर्म खिलाफत को न समझना और आपस में लड़कर खुद को कमजोर करना और शत्रु पक्ष को शक्तिशाली बनाना है। आज भी हम इस शत्रु को नही समझ रहे है और सेकुलरिज्म के नाम पर अपनी जड़ें कमजोर कर रहे है।

Comments

comments

About the author

prachur

Admin of Prachur.com. Please follow us on social media. Links are attached below.
Like us on facebook https://www.facebook.com/prachurnews/

Leave a Comment